Tere Dil Ki Sarjami Pe

Shayar Shayari 


ले जाऊँ मंजिल को जिंदगी की कस्ती किस किनारे से,
की कटता नहीं सफर अब तो लहरों के भी सहारे.
Le Jaun Manjil Ko Jindgi Ki Kasti Kis Kinare Se,
Ki Katta Nahin Safar Ab To Lahron Ke Bhi Sahare.

तेरे दिल की सरजमी पे
मैं उतरा हूँ चंद ख्वाबों के लिये ,
है शीशे से ये ख्वाब टूटकर बिकरे तो
चुभेंगे तुझे भी.
Tere Dil Ki Sarjami Pe
Main Utara Hun Chand Khwabon Ke Liye,
Hai Shishe Se Ye Khwab Tutkar Bikare To Chubhenge Tujhe Bhi.

राहें-उल्फत में रहा सफर सुहाना हमारा नहीं,
तमन्नाओ को दरिया ही मिला मिला किनारा नहीं.
Rahen-Ulfat Men Raha Safar Sunana Humara Nahin,
Tamannao Ko Dariya Hi Mila Mila Kinara Nahin.

मुझे याद कर खोए रहना सिलसिला कुछ दिन का है,
आना कभी गुजारे के एक जिंदगी मेरी वफा देखने.
Mujhe Yaad Kar Khoye Rahna Silsila Kuch Din Ka Hai,
Aana Kbhi Gujare Ke Ek Jindgi Meri Wafa Dekhne.

ये भी आजमाइश लगी दिल की कि वो खफा न फहरत,
अब कुर्बत भी बनी जुदाई है उनके बदले अंदाज से.
Ye Bhi Aajmaish Lagi Dil Ki Ki Wo Khwaab Na Fahrat,
Ab Kurbatb Bhi Judai Hai Unake Badle Andaj Se.

ऐ दिल-नादाँ जिद ना कर
पागलों सी उन्हे पाने को,
वो समझदार है बहुत पागलों
की हद भी जानते हैं.!!
E Dil-Nadan Jid Na Kar
Pagalon Si Unhe Paane Ko,
Wo Samjhdar Hai Bahut Pagalon
Ki Had Bhi Jante Hain.

तसव्वुर तो रखते थे मगर बेरंग तस्वीर से,
अब जैसे आईना हो तुम्हारे दीदार का.
Tasawwur To Rakhte The Magar Berang Tasbir Se,
Ab Jaise Aaina Ho Tumhare Didar Ka.

आ आएगा देर - सवेर मेरा भी ख्वाब भी हकीकत में,
करता न ऐतबार आने का गर आता न टूट के.
Aa Aayega Der-Sawer Mera Bhi Khwwab Bhi Haqikat Men,
Karta Na Aitbar Aane Ka Gar Aata Na Tut ke.